बिहार की गौरवमयी वैष्णव धारा – भाग-2

इसके लेखक पं. भवनाथ झा हैं. लेखक परिचय के लिए यहाँ क्लिक करें। शालग्राम क्षेत्र वाराह-पुराण में गण्डकी नदी के दोनों तट को शालग्राम क्षेत्र कहा गया है। इस पुराण के 144वें अध्याय में … Read More

मर्यादापुरुषोत्तम राम की ऐतिहासिकता – भाग-4

इसके लेखक आचार्य किशोर कुणाल, आई.पी.एस. (सेवानिवृत्त) हैं. लेखक परिचय के लिए यहाँ क्लिक करें। सातवाहन राजा वसिष्ठीपुत्र पुलुमावी (131-49 र्इ.) के नासिक-अभिलेख में राम- केशव, अर्जुन, भीम, नहुष, जनमेजय, सगर, … Read More